Principal

महाविद्यालय की वेबसाइट में  आपका स्वागत है। 

देवनागरी महाविद्यालय अपनी स्थापना के समय से ही गुलावठी तथा आसपास के क्षेत्रों में गुणवत्तापूर्ण उच्च शिक्षा की पूर्ति करता रहा है। हमारा उद्देश्य ऐसे मानव संसाधन तैयार करना है जो बदलती वैश्विक परिस्थितियों के साथ कदमताल कर सकें तथा नेतृत्व प्रदान कर सकें। इसके लिए महाविद्यालय के भौतिक अधोसंरचना के उच्चीकरण के साथ  डिजिटलाइजेशन पर ज़ोर दिया जा रहा है। 

महाविद्यालय में शिक्षण सत्र 2021-2022 से ‘नई शिक्षा नीति, 2020’ के अनुरूप स्नातक प्रथम वर्ष से ‘चॉइस बेस्ड क्रेडिट सिस्टम’  के आधार पर नया पाठ्यक्रम लागू किया जा रहा है। नए पाठ्यक्रम के चयन से महाविद्यालय में पढ़ने वाले विद्यार्थियों के समक्ष सीखने के ज्यादा अवसर उपलब्ध होंगे। इसके लिए नए पाठ्यक्रमों को संचालित किए जाने की योजना है, जिससे वे सीखने की संभावनाओं का पूर्ण दोहन कर सकें। नई शिक्षा नीति में सैद्धान्तिक के साथ व्यावहारिक पहलुओं तथा दक्षता निर्माण पर जोर दिया गया है। इन अवसरों का लाभ लेने के किए महाविद्यालय में योग्य तथा अनुभवी प्राध्यापकों की टीम मौजूद है जो उन्हें इसके लिए तैयार करने में मदद करेगी। 

शिक्षार्थी केन्द्रित गतिविधियों से प्रबंधन तथा नेतृत्व कौशल विकसित होता है। इसके लिए महाविद्यालय में वर्ष भर अनेकानेक गतिविधियों का आयोजन किया जाता है। महाविद्यालय अपने सामाजिक दायित्वों को पूरा करने के क्रम में समाज के सबसे कमजोर तबकों का सशक्तिकरण भी करता है। कोरोना काल में महाविद्यालय में राष्ट्रीय सेवा योजना तथा रोवर्स/ रेंजर्स की इकाई कार्यरत है। शीघ्र ही राष्ट्रीय कैडेट कोर (एनसीसी) ईकाई संचालित किए जाने की योजना है।

हमारा प्रयास सीखने की प्रक्रिया को सुरुचिपूर्ण बनाना तथा शिक्षा को समाज के लिए उपादेय बनाना है। महाविद्यालय उत्थान के लिए उसके सभी हितधारकों- प्रबंधन, महाविद्यालय के शैक्षणिक तथा शिक्षणेतर स्टाफ, शिक्षार्थी, पुराछात्र, अभिभावक तथा समाज के उत्थान के बारे में अहर्निश काम करने वाले लोगों की सक्रिय भूमिका है।  इन सबके मध्य घनिष्ठ तथा बेहतर समन्वय से हम अपने संकल्पों को पूरा कर पाएंगे। 

शुभकामनाओं के साथ

प्रो0 योगेश कुमार
प्राचार्य